Top_Header_Right_Add

सदति हमरा तु मारैत रहले

सदति हमरा तु मारैत रहले
  • विद्यानन्द बेदर्दी

☆ ☆ ☆ ☆

सदति हमरा तु मारैत रहले,
जेना बिजी मारैय साँपके
सदति दमन तु करैत रहले,
बात करैछे मेलमिलापके?
एक-एक बदला लेबौ आब,
तो बुझैछे कि अपनेआपके?
☆ ☆ ☆ ☆
ओ मारैत रहतै,फुसिएके सदित मरैत रहबे?
भाइ रे कि अहिना टुकुर टुकुर तकैत रहबे?
☆ ☆ ☆ ☆
हे रे देश चलबऽ तोरा सन सन आब बैमान नै चाहीँ
कान खोलि सुनिले,मधेश विरोधी संविधान नै
चाहीँ॥
☆ ☆ ☆ ☆
रे जालिम तु,रे कायर तु,हे रे बैमान तु
जकरे सँ पेट चलौ,तकरे लेले जान तु
कदापि नै स्विकारबौ हम मधेश बासी
अपने लऽ राखिले,अपन संविधान तु॥

About The Author

News Portal Web design in Saptari Offer